By heygobind Date January 30, 2022

तिल स्निग्ध, गर्म, वायु को शांत करने वाला, कफ-पित्त, पचने में भारी, तेजबुद्धि और जठर, त्वचा, बालों और दांतों के लिए लाभकारी होता है। (अष्टांगहृदय, सुश्रुत संहिता) तिल लाल, सफ़ेद  व काले - तीन प्रकार के होते हैं । तिल में लौह, प्रोटीन, मैग्नेशियम, ताँबा एवं विटामिन ए, बी-1, बी-6 आदि पाए जाते हैं।   तिल को पीसकर तैयार किये गए उबटन से स्नान करन...

Read More

By heygobind Date August 14, 2021

ब्रह्मांड के सभी कार्य-व्यापार भगवान सूर्यनारायण की कृपा से चलते हैं, जो दुनिया को रोशन करते हैं। सूर्य की किरणें व्यक्ति के स्वस्थ और निरोगी रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। यदि कोई व्यक्ति कुछ समय के लिए सूर्य स्नान करता है, तो वह कई रोगों से सुरक्षित रहता है और यदि वह बीमार है, तो यह उसे स्वस्थ होने में मदद करता है। Surya Kiran Chikitsa...

Read More

By heygobind Date June 27, 2021

प्रथम प्रयोग: मौसम के अनुसार कुछ समय तक सेब खाना चाहिए और इसके सेवन से लाभ होता हैं द्वितीय प्रयोग: अरनी के पत्तों का 25 से 45 मि.ली. रस दिन में तीन बार पीने से मोटापा दूर होती है। तृतीया प्रयोग: आयर्वेद में चंद्रप्रभावटी की 2-2 गोली रोज दो बार गोमूत्र के साथ लेने से एवं दूध-चावल का...

Read More

By heygobind Date November 30, 2020

स्वास्थ्य के लिए शकरकंद  बहुत ही फायदेमंद होता है। बहुत सारे लोग इसको आलू के जैसे ही समझते है पर शकरकंद में बहुत ही अधिक पौष्टिक तत्वों के कारण ये आलू से बहुत लाभदायद होता हैं। अधिकतर लोग सर्दियों में शकरकंद को आग में भून कर खाना पसंद करते हैं। कई लोग इसको उबालकर इसकी चाट बनाकर खाते हैं।    सर्दियों में कंदमूल खाना बहुत ही अधिक लाभकारी...

Read More

By heygobind Date September 13, 2020

एसिडिटी acidity क्यों होता हैं। जब हम चटपटा मसालेदार खाना खाते हैं। यदि हम भोजन सही समय से नहीं करते और भूखे रहते हैं। सुबह खाली पेट चाय आदि का सेवन करते हैं। स्मोकिंग, शराब और अन्य नशे करते हैं। एसिडिटी का मुख्य कारण रात को भोजन सही समय पर नहीं लेना। यदि शरीर में गर्मी अधिक हो तो। एसिडिटी के लक्षण यदि पेट में जलन होती है। खट्टी और कड़वी ...

Read More

By heygobind Date August 16, 2020

बाल कटाने के नियम जब भी आप दाढ़ी बना रहे हो तो पूर्व और उत्तर दिशा की ओर बनानी चाहिए। ऐसे करने से आयु की बढ़ती हैं। दाढ़ी बनवाने के पश्चात स्नान अवश्य कर ले। (महाभारत, अनुशासन पर्व 108. 128. 139) बुधवार और शुक्रवार के दिन ही बाल कटवाना चाहिए। इसके सिवाय किसी और दिन नहीं बाल नहीं कटवाना चाहिए। शिवं भक्ति में कमी आती ह...

Read More

By heygobind Date July 26, 2020

ताजी हल्दी का प्रयोग सलाद के रूप में भी होता है। आमी हल्दी का भी प्रयोग सलाद के रूप में करते हैं। इसका रंग सफेद एवं सुगंध में आम के समान होती है। विवाह आदि और अन्य मांगलिक उत्सव में हल्दी का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वद के अनुसार हल्दी कड़वी, कसैली, गरम, उष्णवीर्य, पाचन में हल्की, शरीर के रंग को साफ करने वाली, वात पित कफ आदि का शामक, त्वचा...

Read More

By heygobind Date June 26, 2020

बादाम, सौंफ और मिश्री को समान मात्रा में मिलाकर पीस लेना चाहिए। प्रत्येक रात्रि को सोने के समय इसकी एक चम्मच को गर्म दूध में मिलाकर पियें। कम से काम 40 दिनों तक इसका सेवन करना चाहिए। आँवला, हरड़ और बहेड़ा तीनों को समान मात्रा में लेकर उसका त्रिफला चूर्ण बना लें। त्रिफला चूर्ण की 3 से 6 ग्राम मात्रा को घी और मिश्री के साथ मिलाकर कुछ माह तक...

Read More

By heygobind Date June 20, 2020

शंका : ग्रहण के सूतक काल में सोना चाहिए या नहीं ? समाधान : सो सकते हैं लेकिन चूंकि सोकर तुरंत उठने के बाद जल-पान, लघुशंका-शौच आदि की स्वाभाविक प्रवृत्ति की आवश्यकता पड़ती है अतः ग्रहण प्रारम्भ होने के करीब 4 घंटें पहले उठ जाना चाहिए जिससे लघुशंका-शौच आदि की आवश्यकता होने पर इनसे निवृत्त हो सके ग्रहणकाल में समस्या न आये। शंका : ...

Read More

By heygobind Date June 17, 2020

गर्भवती महिलायें ग्रहण के प्रभाव से बचने हेतु रखें इन बातों का ध्यान महर्षि वेदव्यासजी कहते हैं कि रविवार को सूर्यग्रहण अथवा सोमवार को चन्द्रग्रहण हो तो चूड़ामणियोग होता है । अन्य वारों में सूर्यग्रहण में जो पुण्य होता है उससे करोड़ गुना पुण्य चूड़ामणि योग में कहा गया है । इस वर्ष 21 जून (रविवार) को होने वाला सूर्यग्रहण भारी विनाशक योग का सर्जन ...

Read More

आदित्य हृदय स्तोत्रम् :

आदित्य हृदय स्तोत्रम् :

कामिका एकादशी: गोविन्द ! वासुदेव ! आपको मेरा नमस्कार है !गोविन्द ! वासुदेव ! आपको मेरा नमस्कार है !

कामिका एकादशी: गोविन्द ! वासुदेव ! आपको मेरा नमस्कार है !गोविन्द ! वासुदेव ! आपको मेरा नमस्कार है !

घनश्याम मनमोहन सवाँरे| उस प्रभु को क्या कहे, घनश्याम मनमोहन सवाँरे की प्रेम की कैसी कैसी अद्भुत रहस्यमयी लीला कथाएं।

घनश्याम मनमोहन सवाँरे| उस प्रभु को क्या कहे, घनश्याम मनमोहन सवाँरे की प्रेम की कैसी कैसी अद्भुत रहस्यमयी लीला कथाएं।

*ब्राह्ममुहूर्त में उठन के लाभ…जो भी इस दुनिया मे महान लोग हुए और चिरस्मरणीय एवं दीर्घजीवी हुए हैं वे प्रायः ब्राह्ममुहूर्त में उठते थे।

*ब्राह्ममुहूर्त में उठन के लाभ…जो भी इस दुनिया मे महान लोग हुए और चिरस्मरणीय एवं दीर्घजीवी हुए हैं वे प्रायः ब्राह्ममुहूर्त में उठते थे।

बिल्व, बेल या बेलपत्थर, भारत में होने वाला एक फल का पेड़ है। इसे रोगों को नष्ट करने की क्षमता के कारण बेल को बिल्व कहा गया है

बिल्व, बेल या बेलपत्थर, भारत में होने वाला एक फल का पेड़ है। इसे रोगों को नष्ट करने की क्षमता के कारण बेल को बिल्व कहा गया है

श्रद्धा विश्वास | दक्षिणशेवर में एक दिन श्रीरामकृष्ण अपने एक सरल परंतु वादप्रिय स्वभाव वाले शिष्य को कोई बात समझा रहे थे

श्रद्धा विश्वास | दक्षिणशेवर में एक दिन श्रीरामकृष्ण अपने एक सरल परंतु वादप्रिय स्वभाव वाले शिष्य को कोई बात समझा रहे थे

प्यारी माँ

प्यारी माँ

चन्द्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण के समय पूर्णरूप से संयम रखकर जप-ध्यान करने से कई गुना फल की प्राप्ति होती है।

चन्द्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण के समय पूर्णरूप से संयम रखकर जप-ध्यान करने से कई गुना फल की प्राप्ति होती है।

Vat Savitri 2020 वटसावित्री-व्रत (वटसावित्री व्रत – अमावस्यांत पक्ष : 20 मई

Vat Savitri 2020 वटसावित्री-व्रत (वटसावित्री व्रत – अमावस्यांत पक्ष : 20 मई

बाबा फरीद एक सूफी संत थे | बाबा फरीद एक सूफी संत थे, एक बार एक व्यक्ति उनके पास आया और कहा की मुझ में बहुत से बुरी आदत है

बाबा फरीद एक सूफी संत थे | बाबा फरीद एक सूफी संत थे, एक बार एक व्यक्ति उनके पास आया और कहा की मुझ में बहुत से बुरी आदत है

top