By heygobind Date November 30, 2020

स्वास्थ्य के लिए शकरकंद  बहुत ही फायदेमंद होता है। बहुत सारे लोग इसको आलू के जैसे ही समझते है पर शकरकंद में बहुत ही अधिक पौष्टिक तत्वों के कारण ये आलू से बहुत लाभदायद होता हैं। अधिकतर लोग सर्दियों में शकरकंद को आग में भून कर खाना पसंद करते हैं। कई लोग इसको उबालकर इसकी चाट बनाकर खाते हैं।    सर्दियों में कंदमूल खाना बहुत ही अधिक लाभकारी...

Read More

By heygobind Date September 13, 2020

एसिडिटी acidity क्यों होता हैं। जब हम चटपटा मसालेदार खाना खाते हैं। यदि हम भोजन सही समय से नहीं करते और भूखे रहते हैं। सुबह खाली पेट चाय आदि का सेवन करते हैं। स्मोकिंग, शराब और अन्य नशे करते हैं। एसिडिटी का मुख्य कारण रात को भोजन सही समय पर नहीं लेना। यदि शरीर में गर्मी अधिक हो तो। एसिडिटी के लक्षण यदि पेट में जलन होती है। खट्टी और कड़वी ...

Read More

By heygobind Date August 16, 2020

बाल कटाने के नियम जब भी आप दाढ़ी बना रहे हो तो पूर्व और उत्तर दिशा की ओर बनानी चाहिए। ऐसे करने से आयु की बढ़ती हैं। दाढ़ी बनवाने के पश्चात स्नान अवश्य कर ले। (महाभारत, अनुशासन पर्व 108. 128. 139) बुधवार और शुक्रवार के दिन ही बाल कटवाना चाहिए। इसके सिवाय किसी और दिन नहीं बाल नहीं कटवाना चाहिए। शिवं भक्ति में कमी आती ह...

Read More

By heygobind Date July 26, 2020

ताजी हल्दी का प्रयोग सलाद के रूप में भी होता है। आमी हल्दी का भी प्रयोग सलाद के रूप में करते हैं। इसका रंग सफेद एवं सुगंध में आम के समान होती है। विवाह आदि और अन्य मांगलिक उत्सव में हल्दी का प्रयोग किया जाता है। आयुर्वद के अनुसार हल्दी कड़वी, कसैली, गरम, उष्णवीर्य, पाचन में हल्की, शरीर के रंग को साफ करने वाली, वात पित कफ आदि का शामक, त्वचा...

Read More

By heygobind Date June 26, 2020

बादाम, सौंफ और मिश्री को समान मात्रा में मिलाकर पीस लेना चाहिए। प्रत्येक रात्रि को सोने के समय इसकी एक चम्मच को गर्म दूध में मिलाकर पियें। कम से काम 40 दिनों तक इसका सेवन करना चाहिए। आँवला, हरड़ और बहेड़ा तीनों को समान मात्रा में लेकर उसका त्रिफला चूर्ण बना लें। त्रिफला चूर्ण की 3 से 6 ग्राम मात्रा को घी और मिश्री के साथ मिलाकर कुछ माह तक...

Read More

By heygobind Date June 20, 2020

शंका : ग्रहण के सूतक काल में सोना चाहिए या नहीं ? समाधान : सो सकते हैं लेकिन चूंकि सोकर तुरंत उठने के बाद जल-पान, लघुशंका-शौच आदि की स्वाभाविक प्रवृत्ति की आवश्यकता पड़ती है अतः ग्रहण प्रारम्भ होने के करीब 4 घंटें पहले उठ जाना चाहिए जिससे लघुशंका-शौच आदि की आवश्यकता होने पर इनसे निवृत्त हो सके ग्रहणकाल में समस्या न आये। शंका : ...

Read More

By heygobind Date June 17, 2020

गर्भवती महिलायें ग्रहण के प्रभाव से बचने हेतु रखें इन बातों का ध्यान महर्षि वेदव्यासजी कहते हैं कि रविवार को सूर्यग्रहण अथवा सोमवार को चन्द्रग्रहण हो तो चूड़ामणियोग होता है । अन्य वारों में सूर्यग्रहण में जो पुण्य होता है उससे करोड़ गुना पुण्य चूड़ामणि योग में कहा गया है । इस वर्ष 21 जून (रविवार) को होने वाला सूर्यग्रहण भारी विनाशक योग का सर्जन ...

Read More

By heygobind Date June 14, 2020

🌹प्रतिदिन योगासन करें, सम्भव न हो तो खुले हवादार स्थान में टहलें। सुबह की ताजी व शुद्ध वायु से शरीर में स्फूर्ति आती है तथा जीवनीशक्ति का विकास होता है। 🌹रोज सुबह खाली पेट नीम की १५-२० पत्तियाँ खाने से उनमें विद्यमान जीवाणुनाशक 'इजेडिरेक्टिन' रसायन यकृत (लीवर) को स्वस्थ व मजबूत बनाता है। यह प्रयोग मोटापा घटाकर शरीर को सुडौल बनाता है। 🔹नोट:...

Read More

By heygobind Date June 6, 2020

गर्मियों में जौ और चने का सत्तू बहुत ही लाभदायी होता है । यह वजन बढ़ाने में सहायक, बल वीर्यवर्धक, तृप्तिकारक, प्यास व कफ पित्त शामक, एवं आँखों के रोगों में लाभदायक होता हैं । जब हम धुप, या चलने के कारण थकावट हो जाती हैं एवं व्यायाम करनेवालों के लिए हितकारी हैं। सत्तू बनाने की विधि : चने को भून के छिलके अलग कर देना चाहिए । चने की अपेक्षा एक चौथ...

Read More

By heygobind Date May 29, 2020

गर्मियों में खरबूजा बहुत ही गुणकारी फल हैं। गर्मियों में शरीर में पानी की कमी हो जाती हैं जिसको पूरा करने के लिए ईश्वर ने खरबूजा जैसे फल दिए हैं।खरबूजा पानी की कमी को तो दूर करता हैं साथ में कई और समस्याओं को भी दूर करता हैं। खरबूजा विटामिन का अच्छा स्रोत है।

Read More

वास्तु से जुड़ी बहुउपयोगी बातें जो हमारे जीवन को ऊंचाई तक ले जाये

वास्तु से जुड़ी बहुउपयोगी बातें जो हमारे जीवन को ऊंचाई तक ले जाये

भक्त श्री कर्मानन्द जी…..श्री कर्मानंद जी चारण कुल में उत्पन्न एक श्रेष्ठ भक्त थे,वे अपने मधुर गायन से प्रभु की सेवा करते थे।

भक्त श्री कर्मानन्द जी…..श्री कर्मानंद जी चारण कुल में उत्पन्न एक श्रेष्ठ भक्त थे,वे अपने मधुर गायन से प्रभु की सेवा करते थे।

जया एकादशी…..माघ मास में शुक्लपक्ष में कौन सी एकादशी आती हैं, और उसका पूजन एवं एकादशी की विधि क्या है

जया एकादशी…..माघ मास में शुक्लपक्ष में कौन सी एकादशी आती हैं, और उसका पूजन एवं एकादशी की विधि क्या है

बुद्धि को बढ़ाने के कुछ प्रयोग . ये प्रयोग करने से कुछ ही समय में बहुत लाभ होता हैं।

बुद्धि को बढ़ाने के कुछ प्रयोग . ये प्रयोग करने से कुछ ही समय में बहुत लाभ होता हैं।

बुरी आदत | बाबा फरीद एक सूफी संत थे, एक बार एक व्यक्ति उनके पास आया और कहा की मुझ में बहुत से बुरी आदत है उनको मैं कैसे छोड़ू ?

बुरी आदत | बाबा फरीद एक सूफी संत थे, एक बार एक व्यक्ति उनके पास आया और कहा की मुझ में बहुत से बुरी आदत है उनको मैं कैसे छोड़ू ?

गर्मियों में दही को जमाने, खाने की उत्तम विधि, दही का सेवन प्राय अधिकतर लोग करते हैं

गर्मियों में दही को जमाने, खाने की उत्तम विधि, दही का सेवन प्राय अधिकतर लोग करते हैं

नेत्र की ज्योति को बढ़ाने के लिए प्रयोग

नेत्र की ज्योति को बढ़ाने के लिए प्रयोग

अक्षय तृतीया …….अक्षय तृतीया सतयुग और त्रेतायुग की आरम्भ की तिथि मानी जाती हैं।

अक्षय तृतीया …….अक्षय तृतीया सतयुग और त्रेतायुग की आरम्भ की तिथि मानी जाती हैं।

स्वस्तिक की महिमा….ध्यान के लिए पूजाघर और मन की शांति के लिए स्वस्तिक अवश्य बनाए तथा उसके सामने आसन बिछाकर बैठे.

स्वस्तिक की महिमा….ध्यान के लिए पूजाघर और मन की शांति के लिए स्वस्तिक अवश्य बनाए तथा उसके सामने आसन बिछाकर बैठे.

श्रीकृष्णनाम और पारस पत्थर……..

श्रीकृष्णनाम और पारस पत्थर……..

top