By heygobind Date April 12, 2021

2021, Chaitra Navratri start from April 13, 2021, and would end on April 22, 2021. नवरात्रि पूजन विधि Vavratri 2021🌷 ➡ 13 अप्रैल 2021 मंगलवार से नवरात्रि प्रारंभ। 🙏🏻 नवरात्रि के प्रत्येक दिन माँ भगवती के एक स्वरुप श्री शैलपुत्री, श्री ब्रह्मचारिणी, श्री चंद्रघंटा, श्री कुष्मांडा, श्री स्कंदमाता, श्री कात्यायनी, श्री कालरात्रि, ...

Read More

By heygobind Date March 8, 2021

युधिष्ठिर जी  ने कहा : हे वासुदेव, फाल्गुन के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी आती हैं और कृपया व्रत करने की विधि क्या है? श्री वासुदेव जी ने कहा: युधिष्ठिर! एक समय संत नारदजी ने ब्रह्मा जी से फाल्गुन में कृष्णपक्ष की विजया एकादशी के व्रत का माहात्म्य पूछा था तथा श्री ब्रह्माजी ने जो इस व्रत की विधि बतायी थी, उसे सुनो :ब्रह्माजी ने कहा: नारद जी ! यह ...

Read More

By heygobind Date February 7, 2021

युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण जी से कहा: हे भगवन्! माघ माह में कृष्णपक्ष की एकादशी कौनसी आती हैं? एकादशी की विधि क्या हैं और उसका फल क्या मिलता हैं ? आप कृपा करके हम सबको इस एकादशी का माहात्म्य बताये। श्री कृष्ण जी ने कहा: हे नृपश्रेष्ठ! माघ मास के कृष्णपक्ष में जो एकादशी आती है उसका नाम  षटतिला हैं और ये एकादशी सभी पापों का नाश करती हैं। षटतिला ...

Read More

By heygobind Date January 29, 2021

माघ कृष्ण चतुर्थी - संकष्टी चतुर्थी - संकट चौथ माघ महीने में आने वाली चतुर्थी तिथि को संकष्टी चतुर्थी (सकट चौथ) कहा जाता है। सकट चौथ को माताएं अपने पुत्र के लिए ये व्रत रखती हैं। सकट चौथ में तिलकुट से प्रसाद बनाकर श्री गणेश जी को भोग लगया जाता हैं। सकट चौथ में तिल के लड्डू बनाये जाते हैं। 31 जनवरी 2021 रविवार को संकट चौथ, संकष्टी...

Read More

By heygobind Date January 14, 2021

वाल्मीकि रामायण में आदित्य हृदय स्तोत्र का पाठ अगस्त्य ऋषि द्वारा भगवान् श्री रामजी को युद्ध में रावण पर विजय प्राप्ति के लिए दिया गया था।आदित्य हृदय स्तोत्र का रोज पाठ करने से जीवन मे आने वाले परेशानियों, कष्टों का निवारण होता हैं। इस स्तोत्र में सूर्य भगवान की निष्ठापूर्वक उपासना करते हुए उनसे विजयी मार्ग पर ल...

Read More

By heygobind Date November 22, 2020

प्रभु श्रीकृष्णजी ने कहा : हे अर्जुन! मैं तुमको मुक्ति देनेवाली कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की ‘प्रबोधिनी/ देवउठनी एकादशी ’ के सम्बन्ध में संत नारद और ब्रह्माजी के बीच हुए वार्तालाप को सुनाता हूँ । एक समय नारद जी ने ब्रह्मजी से प्रश्न किया "प्रबोधिनी एकादशी देवउठनी एकादशी’ के व्रत का क्या फल होता है, कृपया आप मुझ...

Read More

By heygobind Date July 15, 2020

🌹युधिष्ठिर ने पूछा : गोविन्द ! वासुदेव ! आपको मेरा नमस्कार है ! श्रावण (गुजरात महाराष्ट्र के अनुसार आषाढ़) के कृष्णपक्ष में कौन सी एकादशी होती है ? कृपया उसका वर्णन कीजिये । 🌹भगवान श्रीकृष्ण बोले : राजन् ! सुनो । मैं तुम्हें एक पापनाशक उपाख्यान सुनाता हूँ, ...

Read More

By heygobind Date May 20, 2020

🌹 वटसावित्री-व्रत (वटसावित्री व्रत - अमावस्यांत पक्ष : 20 मई 🌹 वटसावित्री व्रतारम्भ (पूर्णिमांत पक्ष) : 03 जून वट पूर्णिमा : 05 जून 🌳 वृक्षों में भी भगवदीय चेतना का वास है, ऐसा दिव्य ज्ञान वृक्षोपासना का आधार है । इस उपासना ने स्वास्थ्य, प्रसन्नता, सुख-समृद्धि, आध्यात्मिक उन्नति एवं पर्यावरण संरक्षण में बहुत महत्त्वपूर्ण योगदान दिया है ।...

Read More

By heygobind Date April 23, 2020

मत्स्य, स्कंद, भविष्य, नारद पुराणों आदि ग्रंथों में वैशाख शुक्ल की तृतीया की बहुत  महिमा लिखी हैं। अक्षय तृतीया को किये गए पुण्य, जिसका कभी क्षय न हो, अक्षय और अनंत फलदायी होता हैं इसलिए इसको अक्षय तृतीया कहा जाता हैं। अक्षय तृतीया सतयुग और त्रेतायुग की आरम्भ की तिथि मानी जाती हैं। भगवान विष्णु जी द्वारा नर और नारायण, हयग्रीव और परशुरामजी के...

Read More

By heygobind Date April 3, 2020

धर्मराज युधिष्ठिर ने वासुदेव से कहा "आपको नमस्कार है! चैत्र शुक्लपक्ष में कौन सी एकादशी आती हैं ? श्रीकृष्ण जी ने कहा : हे राजन्! आप एकाग्र होकर यह यह कथा सुनो, जिसको वशिष्ठ महाराज जी ने राजा दिलीप के पूछने पर उनको सुनाई थी।

Read More

कढ़ी पत्ता जैसे की नाम से ही पता चलता हैं की ये कढ़ी में डाला जाता हैं इसलिए इसका नाम कढ़ी पत्ता रखा गया हैं।

कढ़ी पत्ता जैसे की नाम से ही पता चलता हैं की ये कढ़ी में डाला जाता हैं इसलिए इसका नाम कढ़ी पत्ता रखा गया हैं।

जोगीदास…भावनगर जोकि गुजरात में हैं। उस भावनगर में एक ऐसा डाकू था जिससे उसका राजा भी कांपता था, उस डाकू का नाम था जोगीदास खुमाण।

जोगीदास…भावनगर जोकि गुजरात में हैं। उस भावनगर में एक ऐसा डाकू था जिससे उसका राजा भी कांपता था, उस डाकू का नाम था जोगीदास खुमाण।

विजया एकादशी

विजया एकादशी

नेत्रज्योति की रक्षा हेतु विशेष मन्त्र, ॐ ॐ  ॐ ॐ मेरी आरोग्य शक्ति

नेत्रज्योति की रक्षा हेतु विशेष मन्त्र, ॐ ॐ  ॐ ॐ मेरी आरोग्य शक्ति

अक्षय तृतीया …….अक्षय तृतीया सतयुग और त्रेतायुग की आरम्भ की तिथि मानी जाती हैं।

अक्षय तृतीया …….अक्षय तृतीया सतयुग और त्रेतायुग की आरम्भ की तिथि मानी जाती हैं।

वास्तु से जुड़ी बहुउपयोगी बातें जो हमारे जीवन को ऊंचाई तक ले जाये

वास्तु से जुड़ी बहुउपयोगी बातें जो हमारे जीवन को ऊंचाई तक ले जाये

*ब्राह्ममुहूर्त में उठन के लाभ…जो भी इस दुनिया मे महान लोग हुए और चिरस्मरणीय एवं दीर्घजीवी हुए हैं वे प्रायः ब्राह्ममुहूर्त में उठते थे।

*ब्राह्ममुहूर्त में उठन के लाभ…जो भी इस दुनिया मे महान लोग हुए और चिरस्मरणीय एवं दीर्घजीवी हुए हैं वे प्रायः ब्राह्ममुहूर्त में उठते थे।

पाप ले लों पाप ले लों।  एक महिला बाज़ार में मटका लेकर कुछ बेच रही थी, और साथ में कह रही थी की पाप ले लो पाप

पाप ले लों पाप ले लों। एक महिला बाज़ार में मटका लेकर कुछ बेच रही थी, और साथ में कह रही थी की पाप ले लो पाप

भक्त दमा बाई जी…. श्री दमा बाई जी अत्यंत उच्च कोटि की संत थी।आपकी संत सेवा में बड़ी ही रुचि थी।

भक्त दमा बाई जी…. श्री दमा बाई जी अत्यंत उच्च कोटि की संत थी।आपकी संत सेवा में बड़ी ही रुचि थी।

हल्दी सेवन के लाभ | बहुत पुराने समय से हमारे खाने में हल्दी का प्रयोग किया जाता हैं और बहुत से बीमारी में आयुर्वेदिक और घरेलु उपचार के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता हैं।

हल्दी सेवन के लाभ | बहुत पुराने समय से हमारे खाने में हल्दी का प्रयोग किया जाता हैं और बहुत से बीमारी में आयुर्वेदिक और घरेलु उपचार के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता हैं।

top